Home Chandigarh बैसाखी स्पेशल: आज के ही दिन हुई थी यह ऐतिहासिक घटना

बैसाखी स्पेशल: आज के ही दिन हुई थी यह ऐतिहासिक घटना

154
0
बैसाखी स्पेशल: आज के ही दिन हुई थी यह ऐतिहासिक घटना

बैसाखी स्पेशल: आज के ही दिन हुई थी यह ऐतिहासिक घटना
इतिहास में वैशाखी

धार्मिक दृष्टि के अलावा ऐतिहासिक रूप से भी बैसाखी का त्योहार महत्वपूर्ण है। बात है सन् 1699 की, बैसाखी के अवसर पर गुरू गोविंद सिंह जी ने सिख समुदाय को आमंत्रित किया। गुरू का अदेश मिलते ही सभी सिख समुदाय आनंदपुर साहिब के उस बड़े से मैदान में पहुंच गये जहां पर गोविंद सिंह जी ने सभा का आयोजन किया था।
गोविंद सिंह जी ने एक नंगी तलवार लेकर सिख समुदाय को संबोधित किया कि मुझे सिर चाहिए। गुरू की बात सुनते ही सभा में सन्नाटा छा गया। तभी लाहौर निवासी दयाराम खड़ा हुआ और हाथ जोड़कर बोला, “मेरा सिर हाजिर है”। गोविंद सिंह दयाराम को तंबू में ले गये और कुछ ही देर में तंबू से खून की धारा बहती नज़र आयी।
इसके बाद गोविंद सिंह फिर से मंच पर आये पुनः एक और सिर की मांग की। इस बार सहारनपुर भाई धर्मदास आगे आये। इन्हें भी तंबू में ले जाया गया और फिर तंबू से खून की धारा बह निकली।
इतिहास में वैशाखी
बैसाखी के मौके पर हुई थी यह ऐतिहासिक घटना
इसके बाद क्रमशः जगन्नाथ पुरी निवासी हिम्मत राय, द्वारका निवासी मोहकम चंद और पांचवी बार बीदर निवासी साहिब चंद को तंबू में ले जाया गया और हर बार तंबू से खून की धारा बह निकली।
साहिब चंद को तंबू में ले जाने के बाद जब छठी बार गोविंद सिंह जी तंबू से बाहर निकले तो वह सभी लोग उनके साथ थे जिन्हें गुरू जी अपने साथ तंबू में ले गये थे। पांचों व्यक्ति ने कहा कि गुरू जी हमारी परीक्षा ले रहे थे, हर बार बकरे की बलि दी गयी।
इसके बाद गुरुजी ने सिख समुदाय को संबोधित करके कहा कि ये मेरे ‘पंच प्यारे’ हैं। इनकी निष्ठा से एक नए संप्रदाय का जन्म हुआ है जो खालसा कहलाएगा। खालसा की स्थापना करने के बाद गुरू गोविंद सिंह जी ने बड़ा सा कड़ाह मंगवाया। इसमे स्वच्छ जल भरा गया। गोविंद सिंह जी की पत्नी माता सुंदरी ने इसमे बताशे डाले। ‘पंच प्यारों’ ने कड़ाह में दूध डाला और गुरुजी ने गुरुवाणी का पाठ करते हुए उसमे खंडा चलाया।

बैसाखी स्पेशल: आज के ही दिन हुई थी यह ऐतिहासिक घटना
Rate this post

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

*