Bank Frauds Chandigarh

कार्ड क्लोनिंग करने वाले इंटरनैशनल गैंग के दो मैंबर दिल्ली से गिरफ्तार

केनरा बैंक की ए.टी.एम. मशीन में कार्ड स्कीमर और स्पाई कैमरा लगाकर कार्ड क्लोनिंग करने वाले इंटरनैशनल गैंग के दो सदस्यों को क्राइम ब्रांच ने नई दिल्ली के होटल गिलिटीज वेस्र्टन इन से गिरफ्तार कर लिया। आरोपियों की पहचान रोमानिया निवासी मिसलिया लेशियन लोनट और पराश्चिव जोर्ज एलेट्रांडू के रूप में हुई।

क्राइम ब्रांच को इनके पास विग, टीशर्ट और कैप बरामद की है जिसे पहनकर ये अलग-अलग ए.टी.एम. में कार्ड स्कीमर और स्पाई कैमरा लगाते थे। दोनों ने इंडिया से लोगों के ए.टी.एम. का डाटा एकत्रित कर करके रोमानिया जाकर कार्ड क्लोनिंग, ऑनलाइन शापिंग और इंटरनैशनल मनी विड्रा करनी थी। क्राइम ब्रांच ने आरोपियों को जिला अदालत में पेश किया, जहां से उन्हें तीन दिन के पुलिस रिमांड पर भेज दिया गया।

ए.टी.एम. मशीन और होटल की सी.सी.टी.वी. फुटेज में हुई पहचान
एस.पी. क्राइम रवि कुमार ने बताया कि केनरा बैंक के ए.टी.एम. में कार्ड स्कीमर और स्पाई कैमरा मिलने के बाद डी.एस.पी. पवन कुमार के नेतृत्व में इंस्पैक्टर अमनजोत ने अपनी टीम के साथ चंडीगढ़ के होटलों में ठहरे विदेशी नागरिकों का रिकार्ड जुटाया।

इंस्पैक्टर अमनजोत को सूचना मिली कि रोमानिया के दो नागरिक 2 अगस्त को सैक्टर-35 स्थित मैट्रो होटल में रुके हैं। होटल के रजिस्टर में उन्होंने अपना नाम मिसलिया लेशियन लोनट और पराश्चिव जोर्ज एलेट्रांडू लिखवाया है। होटल मैट्रो में रहने वाले दोनों रोमानिया के नागरिक सैक्टर-43 स्थित वेस्ट्रर्न कोर्ट होटल में 2 से 5 अगस्त तक रहे।

5 अगस्त के बाद दोनों दिल्ली चले गए। क्राइम ब्रांच ने होटल से दोनों की सी.सी.टी.वी. फुटेज हासिल की। केनरा बैंक और होटल से ली गई सी.सी.टी.वी. फुटेज का मिलान किया गया तो स्कीमर लगाने वालों चेहरे मिल गए। पता चला कि दोनों विदेशी नागरिक नई दिल्ली के होटल गिलिटीज वेस्टर्न इन में रुके हुए हैं।

क्राइम ब्रांच की टीम शुक्रवार को दिल्ली पहुंची और होटल में ठहरे रोमानिया के मिसलिया लेशियन लोनट और पराश्चिव जोर्ज एलेट्रांडू को दबोच लिया। होटल के कमरे से पुलिस को विग, टोपी और अलग-अलग तरह की टीशर्ट बरामद हुई हैं। एस.पी. ने बताया कि दोनों विदेशी नागरिकों से गैंग के अन्य सदस्यों से पूछताछ की जा रही है। इस गैंग में तीन और आरोपी शामिल हैं।

ऐसे दिया वारदात को अंजाम

पराश्चिव जोर्ज एलेट्रांडू 3 जुलाई, 2018 को और मिसलिया लेशियन लोनट 10 जुलाई को इंडिया में लोगों के ए.टी.एम. कार्ड का डाटा एकत्रित करने के लिए आए थे। कुछ दिन आरोपी दिल्ली के होटल में ठहरे। 2 अगस्त को वे चंडीगढ़ पहुंचे और सैक्टर-35 के मैट्रो होटल में रुके। दोनों ने चंडीगढ़ की अलग-अलग मार्कीट में पुरानी ए.टी.एम. मशीनें चेक की।

केनरा बैंक की पुरानी ए.टी.एम. मशीन मिली, जिनमें आसानी से कार्ड स्कीमर और स्पाई कैमरा लगाया जा सकता था। 2 अगस्त को मैट्रो होटल छोड़कर सैक्टर-43 के वेस्टर्न होटल में ठहरे। 4 अगस्त को इन्होंने मनीमाजरा, सैक्टर-35, सैक्टर-17 और मोहाली के केनरा बैंक की ए.टी.एम. मशीन में कार्ड स्कीमर और स्पाई कैमरा लगाया और 5 अगस्त को दिल्ली चले गए।

7 जुलाई को दोनों आरोपी वापस चंडीगढ़ आए। जब वे केनरा बैंक की ए.टी.एम. मशीन में गए तो देखा कि उनके द्वारा लगाया गया कार्ड स्कीमर और स्पाई कैमरा गायब था। इन्हें शक हुआ और दोनों दिल्ली चले गए। दोनों से पुलिस ट्रांसलेटर के जरिए पूछताछ करेगी। पुलिस रोमानिया की भाषा को इंगलिश और हिंदी में ट्रांसलेट करने वाले को बुला रही है।

Rate this post

Leave a Comment

Your email address will not be published.

*