Home Chandigarh मेयर की टेबल पर पटकीं गंदे पानी की बोतलें, एक-दूजे पर जड़े...

मेयर की टेबल पर पटकीं गंदे पानी की बोतलें, एक-दूजे पर जड़े आरोप

464
0
Meeting Of Municipal Council

नगर निगम की सदन की वीरवार को हुई बैठक में शहर में पानी की किल्लत पर चार घंटे सत्ता पक्ष और विपक्ष के पार्षद आपस में उलझते रहे। भाजपा और कांग्रेसी पार्षद एक-दूसरे पर आरोप जड़ते रहे। जब मेयर देवेश मोदगिल ने मामला शांत करने की कोशिश की तो उनकी ही पार्टी की पार्षद चंद्रावती शुक्ला ने बैठक में साथ लाई गई गंदे पानी की बोतलें मेयर के टेबल पर रखते हुए सदन से बढ़ीगमन करने की धमकी दे डाली।

कांग्रेसी पार्षद बबला ने भी मेयर को घेरते हुए कहा कि आपके अपने ही पार्षद गंदे पानी की बोतलें लाएं हैं हम नहीं। बबला ने चंद्रावती से कहा कि आप ठीक कर रही हैं जिस पर भाजपा और कांग्रेसी पार्षद आपस में उलझ गए। बैठक की शुरुआत में बबला ने पानी का मामला उठाने की कोशिश की लेकिन मेयर-भाजपा पार्षदों ने इसका विरोध किया और कहा कि पहले पिछली सदन की बैठक के मिनट्स पारित कर लिए जाएं फिर उन्हें बोलने का समय दिया जाएगा।

बबला ने कहा कि पूरा शहर भीषण जल संकट से जूझ रहा है और निगम इस पर गंभीर नहीं। पानी की समस्या गर्मियों में हर साल होती है, पर उसका कोई समुचित हल निकाल लिया जाता था। ऐसा कुछ नहीं हो पा रहा है। उन्होंने अपने वार्ड का हवाला देते हुए कहा कि आज लोग पानी की मांग करते हैं और हमारी ड्यूटी बनती है कि उन्हें पानी उपलब्ध करवाया जाए।

बबला ने कहा कि उनके अपने वार्ड के लोगों की पानी की मांग को लेकर अपनी जेब से पैसे खर्च कर प्राइवेट टैंकर मुहैया करवाए। बहस में भाग लेते हुए भाजपा पार्षद एवं पूर्व डिप्टी मेयर अनिल दूबे ने कहा कि पानी की नई समस्या नहीं है। गर्मियों में हर बार ऐसा होता है, किंतु इतना शोर शराबा पहले कभी नहीं मचा। पूर्व मेयर अरुण सूद ने कहा कि पानी की गंभीर समस्या से शहरवासी परेशान हैं, इसे हल्के में नहीं लेना चाहिए।

वार्ड-12 की भाजपा पार्षद चंद्रावती शुक्ला ने अपने बैग से गंदे पानी की दो बोतलें निकाल कर सदन में लहराते हुए कहा कि उनके वार्ड में गत काफी दिन से गंदे पानी की सप्लाई हो रही है। बार-बार लिखकर देने के बाद भी कोई परिणाम नहीं आया।

उन्होंने बोतलें मेयर के टेबल के सामने रखकर कहा कि यदि समाधान शीघ्र नहीं किया गया तो वह सदन में धरना देंगी। बाद में कमिश्नर ने उन्हें अगले सप्ताह के पहले दिन विशेष कमेटी से जांच कर उचित कार्रवाई का आश्वासन दिया।

दोषियों को आर्थिक दंड देने की प्रक्रिया करेंगे शुरू

भाजपा पार्षद भरत कुमार ने दीप कॉम्पलैक्स में पानी की किल्लत पर चर्चा की। कमिश्नर ने कहा कि वह विशेष कमेटियां बनाकर जांच करवाने के बाद दोषियों को आर्थिक दंड देने की प्रक्रिया शुरू करेंगे।

सीनियर डिप्टी मेयर गुरप्रीत सिंह ढिल्लों ने पानी की समस्या के साथ शहर में लग रहीं तरबूज और नारियल पानी की अवैध दुकानों को लेकर निगम के ज्वाइंट कमिश्नर तेजदीप सैनी को घेरा। उन्होंने आरोप लगाया कि इंफोर्समैंट विंग के इंस्पैक्टरों की मिलीभगत से व्यक्तिगत रूप से गाढ़ी कमाई का जरिया बना लिया गया है।

तेजदीप सैनी ने कहा कि राजस्व गत वर्ष की तुलना में बढ़ा है। भाजपा पार्षद राजेश गुप्ता बिट्टू ने कार बाजार डीलरों को हल्लोमाजरा से हटाकर शहर में किसी सुरक्षित स्थान पर जगह अलॉट करने की मांग की तो सदन का समर्थन मिला।24 घंटे पानी में लगेगा एक और साल

बबला ने कहा कि मेयर ने पदभार संभालते ही कहा था कि शहर को अतिरिक्त पानी इसी वर्ष मिलने लगेगा लेकिन इसकी अभी तक कोई संभावना नजर नहीं आती। अभी 24 घंटे पानी की सप्लाई के लिए एक वर्ष और लगेगा। उन्होंने मेयर द्वारा अभी तक वार्ड कमेटियों के गठन न करने का भी मामला उठाया। मेयर ने भी उन्हें कहा कि यह समस्याएं पूरे शहर की हैं।

चंद्रावती शुक्ला के बयान पर देविंद्र सिंह बबला और अधिकांश पार्षदों के बीच तू-तू- मैं-मैं शुरू हो गई। भाजपा पार्षदों ने बबला के हंगामे का विरोध किया। मेयर के हस्तक्षेप से शांति बहाल हो सकी। कांग्रेस पार्षद एवं पूर्व डिप्टी मेयर गुरबक्श रावत ने भी मेयर से कमेटियों के शीघ्र गठन की मांग की।

उन्होंने कहा कि पानी के मुद्दे को गंभीरता से लेने की जरूरत है। उन्होंने आरोप लगाया कि शहर में कई अवैध कालोनियां बनी हैं। वहां के लोगों ने पानी की मुख्य सप्लाई लाइन को पंक्चर कर अवैध कनैक्शन ले रखे हैं। इस कारण वैध लोगों को किल्लत गो रही है।

वित्तीय आय बढ़ाने के लिए बढ़ाए गए कदम

सदन ने वित्तीय आय बढ़ाने की ओर भी कदम बढ़ाए। प्रस्ताव पर बहस के बाद अपने मंडी व डे-मार्कीटों को दी जाने वाली जगह की दरें बढ़ा दी गई। डे-मार्कीट में पहले निगम तीन आकार के स्थल अलॉट करता था। अब निर्णय हुआ कि केवल 8&8 का स्थल अलॉट करने व इसकी दर 100 रुपए प्रतिदिन की गई।

अपनी मंडी की दरों में भी वृद्धि हुई। सैक्टर-26 में आईडल ट्रक पार्किंग स्थल की भी दरें बढ़ाने का प्रस्ताव पारित किया। एल.सी.वी. की 24 घंटे की पार्किंग का दर बढ़ाकर 200 रुपए, सामान्य ट्रक की 24 घंटे की पार्किंग 100 रुपए से बढ़ाकर 350 रुपए तथा मल्टी एक्सल वाहनों की पार्किंग दर 200 रुपए से बढ़ाकर 1500 रुपए कर दी गई।

कमेटी के गठन का एजैंडा पारित

सप्लीमैंटरी एजैंडे के रूप में रखे गए कुम्हार मार्कीट एसोसिएशन से किराए की बकाया राशि वसूल करने तथा मलोया में कुम्हार कालोनी में साइट अलॉट करने के लिए कमेटी के गठन का एजैंडा पारित कर दिया। निगम के जनस्वास्थ्य विभाग के स्टोर में वर्षों से पड़े कबाड़ को नीलाम करने का एजैंडा भी पारित किया गया।

सैक्टर-26 में ग्रीन बैल्ट का एजैंडा नहीं हुआ पारित

रोड विंग के लिए 3 टिप्पर ही खरीदे जाएं। सैक्टर-26 में ग्रीन बैल्ट का एजैंडा भी पारित नहीं हुआ। टैक्स ब्रांच के लिए चार्टेड अकाऊंटैंट की तैनाती, सोलिड वेस्ट मैनेजमैंट के लिए कार्यकारी अभियंता की तैनाती का एजैंडा इनकी आवश्यकता को देखते हुए पारित कर दिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

*