Home Chandigarh कर लें इंतजाम, आज से छुट्टी पर गए किसान और शहरों में...

कर लें इंतजाम, आज से छुट्टी पर गए किसान और शहरों में नहीं लाएंगे दूध-सब्जी

359
0
Farmer Strike

जेएनएन, चंडीगढ़। पंजाब में भी किसान शुक्रवार से 10 दिन की छुट्टी पर चले गए हैं। किसान आज से 10 जून तक शहरों में फल-सब्जियों और दूध की सप्लाई नहीं करेंगे। किसानों ने इन 10 दिनों में शहर की दुकानों, शोरूम और सुपर बाजार का रुख नहीं करने का भी निर्णय किया है। अगर शहरी लोगों को फल-दूध या सब्जी चाहिए तो उन्हें गांवों का रुख करना पड़ेगा। राज्‍य में पहले दिन अब तक इसके असर के बारे में पता नहीं चला। किसान यह आंदोलन अपनी विभिन्‍न मांगों को लेकर कर रहे हैं।

वैसे अगर शहरी लोग गांव में आकर दूध, सब्जी खरीदने आते हैं तो उन्हें यह उपलब्ध करवा दिया जाएगा। कर्जमाफी और सभी फसलों की खरीद यकीनी बनाने व लागत पर 50 फीसद लाभ आदि की मांगों को लेकर किसानों ने दूध, सब्जी की सप्लाई बंद की है।

किसान संगठनों के नेताओं ने कहा कि इस दौरान वे कोई रोड जाम या प्रदर्शन नहीं करेंगे। किसान अपने घर और गांव में बैठकर शहर और सरकार को अपना दर्द समझाएंगे। आंदोलन के दौरान किसान आढ़तियों से भी पूरी तरह दूरी बनाकर रखेंगे। किसानों द्वारा एक दूसरे से उधार लेकर 10 दिन तक आर्थिक लेन-देन किया जाएगा।

किसान संगठन इस आंदोलन के लिए पिछले काफी दिनों से सक्रिय थे। उन्‍होंने गांवों में मुनादी कराकर किसानों इसके लिए जागरूक किया और आंदोलन में शाामिल करने की अपील की। किसान नेताओं ने कहा है कि लोगों को तकलीफ न हो इसके लिए यह व्‍यवस्‍था की गई है कि अगर शहरों के लोग दूध और सब्‍जली लेने गांवों में किसानाें के पास आते हैं तो इसे उपलब्‍ध करा दिया जाएगा। भाकियू प्रधान बलबीर सिंह राजेवाल ने कहा कि हमारा मकसद लोगों को परेशान करना नहीं, बल्कि सोई हुई सरकार को जगाना है।

हरियाणा में भी किसान छुट्टी पर चले गए हैा। वहां भी राष्ट्रीय किसान महासंघ के प्रतिनिधियों ने 1 से 10 जून तक शहरों में दूध और फल-सब्जियों की आपूर्ति नहीं होने देने की रणनीति बनाई है। राष्ट्रीय किसान महासंघ के वरिष्ठ सदस्य व भारतीय किसान यूनियन के प्रदेश प्रधान गुरनाम सिंह चढूनी और प्रदेश प्रवक्ता राकेश कुमार ने बताया कि स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट लागू नहीं करने व कर्ज माफी नहीं होने पर किसानों को यह कदम उठाना पड़ रहा है। उन्होंने बताया कि 62 किसान संगठनों ने इस दौरान गांवों से शहरों को खाद्य पदार्थों की सप्लाई नहीं होने देने की पूरी रणनीति बना ली है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

*