Home Chandigarh सामने आई इस महिला के मौत की वजह, बाल फंसते ही पति...

सामने आई इस महिला के मौत की वजह, बाल फंसते ही पति से पूछा था यह सवाल

360
0
Swraikl Spine Injury

एक्वा विलेज में बुधवार को 32 साल की महिला पुनीत कौर की गो कार्ट में बाल फंसने के बाद मौत हो गई थी।

पंचकूला. पिंजौर गार्डन से लगते एक्वा विलेज में बुधवार को 32 साल की महिला पुनीत कौर की गो कार्ट में बाल फंसने के बाद मौत हो गई थी। गुरूवार को करवाए गए पोस्टमॉर्टम में सामने आया है कि महिला की मौत सव्राइकल स्पाइन इंजरी के कारण हुई है। पोस्टमॉटर्म के बाद डेड बॉडी को परिवार वालों को दे दिया गया है। इस मामले में पुलिस ने अभी तक किसी को भी अरेस्ट नहीं किया है। पति से पूछा कि मेरे बाल कहां हैं, इसके बाद गिर गई…

– पुलिस ने एक्वा विलेज के मालिक और प्रबंधन पर 304ए के तहत मामला दर्ज किया है। जबकि 304 के तहत मामला दर्ज किया जा सकता था।

– हालांकि खानापूर्ति के लिए पिंजौर गार्डन प्रबंधन ने डायरेक्टर टूरिज्म को इस मामले में डिपार्टमेंटल जांच करने के लिए कहा है।

– टूरिज्म डिपार्टमेंट के एसीएस विजय वर्धन ने भी जांच के लिए तीन लोगों की कमेटी को बना दिया है। कमेटी में एक एडिशनल डायरेक्टर, जीएम और चीफ इंजीनियर शामिल हैं।

– ये कमेटी सर्विस प्रोवाइडर की कमियों के बारे में जांच करके एक रिपोर्ट बनाएगी।

– वहीं एक्वा विलेज के घटना के समय मौजूद कर्मचारी हरबंस से जब पूछा गया तो उन्होंने बताया कि बाल निकलने के बाद एक बार पुनीत खड़ी हुई थी।

– उसने अपने पति से पूछा भी था कि उसके बाल कहां गए। इतना कहने के बाद ही वो गिर गई।

– हरबंस के अनुसार उसने ही पुनीत को हेल्मेट पहनाया था और बाल बांधने के लिए रबर भी दिया था।

दिखावे के लिए गुरूवार को लगाए बोर्ड…

– मोटर स्पोर्ट्स एक्टिविटी के दौरान इंजरी, अपंगता और मौत भी हो सकती है।

– जितने भी ड्राइवर होंगे, उन्हें अपने रिस्क पर भाग लेना होगा।

– रेस में भाग लेने वाले जूनियर ड्राइवर की लंबाई कम से कम 4 फीट होनी चाहिए। सीनियर ड्राइवर की लंबाई कम से कम 5 फीट होनी चाहिए।

– ड्राइवर के सिर के बाल कंधे

से ज्यादा लंबे हैं, तो उसे ठीक तरह से बांध लेना होगा ताकि

वो कार्ट में न फंसे।

– कार्ट के साइज के तहत ड्राइव करने वाले की लंबाई 7 फीट से ज्यादा नहीं होनी चाहिए। इसके अलावा उसका वजन 110 किलो से ज्यादा न हों।

– सभी ड्राइवर्स को क्लोज्ड

टोड शूज़ पहने होना चाहिए। सिर पर स्कार्फ और लंबे कवर नहीं होने चाहिए।

– ड्राइवर के सिर पर हेल्मेट होना चाहिए और कोई लूज आइटम्स नहीं होने चाहिए। जैसे कि चाबी, मोबाइल सहित अन्य सामान।

– रेस शुरू होने से पहले ट्रैक मार्शल के निर्देशों का पालन करना चाहिए। जिसने नशा

किया हो, उसे गाड़ी चलाने की परमिशन नहीं हैं।

-फॉरेंसिक टीम ने भी पाया- हेल्मेट का लॉक रुकता ही नहीं…
फॉरेंसिक एक्सपर्ट टीम की हेड रिती चौधरी ने उसी हेल्मेट को उठाया, जिसे पुनीत ने पहना हुआ था। पहले हेल्मेट का लॉक लगा ही नहीं। बार-बार कोशिश के बाद जब लॉक लगा, तो वो एकदम ही खुल गया। ये साबित हुआ कि हेल्मेट सही नहीं था।

किश्तें नहीं दी फिर भी कॉन्ट्रैक्ट कैंसिल नहीं किया
एक्वा विलेज के लिए 2013 में 10 साल के लिए जमीन लीज पर ली गई थी। इसका हर महीने का रेंट 3 लाख है। लेकिन 2016 में 5 महीने का रेंट ही नहीं दिया। कुछ नोटिस दिए और फिर कोई एक्शन नहीं लिया। जबकि नियम के अनुसार कॉन्ट्रैक्ट कैंसिल किया जा सकता था।

– सिंगल सीट वाली गो कार्ट पर बैक में चेन सेट कवर है।
– कोई भी इंस्ट्रक्टर नहीं है।

– इसी गो कार्ट पर हुआ हादसा।

– चेन कवर टूटा हुआ है।
– टायर भी कंडम हो चुके हैं।

वजन से ज्यादा बिठाते हैं कार्ट में…

– इंस्ट्रक्शन में लिखा है कि दो लोगों का वजन 110 किलो से ज्यादा नहीं होना चाहिए। तो फिर पुनीत और उसके पति को कैसे गो कार्ट में कैसे बैठने दिया गया। क्योंकि अमूमन दो व्यस्क लोगों का कुल वजन 110 से ऊपर ही होता है।

इंस्ट्रक्टर के नाम पर रबर देने वाला एक बुजुर्ग…

इंस्ट्रक्टर के नाम पर यहां एक बजुर्ग को कुछ रबर के साथ खड़ा किया गया है। इन रबर की भी ऐसी स्थिति है कि ये बालों को ठीक से लपेट भी नहीं सकते।

अफसरों को मौत से कोई फर्क नहीं…

– टूरिज्म डिपार्टमेंट के मैनेजिंग डायरेक्टर समीर पाल सराओ के चंडीगढ़ स्थित सेक्टर-17 के ऑफिस में टेलीफोन नंबर 2702955 और 2704886 पर कॉन्टैक्ट किया गया। तो पता चला कि वह फरीदाबाद में चल रहे सुरजकुंड क्राफ्ट मेले में बिजी हैं। यह मेला खत्म होने पर ही वापस आएंगे। उनका मोबाइल नंबर भी स्विच ऑफ आ रहा था।

– टूरिज्म डिपार्टमेंट के प्रिंसिपल सेक्रेटरी कम हरियाणा गवर्नमेंट में एडिशनल चीफ सेक्रेटरी विजय वर्धन के मोबाइल पर कॉल की तो पूरी बात सुनने के बाद कहा कि मीटिंग में हूं। बाद में ऑफिस फोन करने पर स्टाफ ने बताया कि साहब चले गए हैं। तभी मोबाइल पर कॉल की तो वर्धन बोले मीटिंग में ही हूं। दोपहर दो बजे के बाद उन्होंने फोन ही नहीं उठाया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

*